हेमकुंड साहिब

जिला चमोली के हिमालय पर्वतमाला में समुद्र तल से 15,000 फुट से ऊपर की ऊंचाई पर स्थित श्री हेमकुंट साहिब सिख तीर्थयात्रा के एक लोकप्रिय केंद्र के रूप में उभरी है, जहाँ हर साल गर्मियों में हजारों भक्तों घूमने आते है। हेमकुंड  में अक्टूबर से अप्रैल तक बर्फ की वजह से जाना अत्यधिक दुर्गम है।

हेमकुंड के लिए टेक-ऑफ प्वाइंट ऋषिकेश से 275 किलोमीटर दूर गोविंदघाट का शहर है। यहाँ से 13 किलोमीटर की दूरी पर घंगारिया गाँव तक काफी हद तक अच्छी तरह से बनाया गया पथ है। वहां एक और गुरुद्वारा है जहां तीर्थयात्री रात बिता सकते हैं। इसके अलावा वहाँ कुछ होटल तंबू और गद्दे के साथ एक कैम्प का ग्राउंड हैं यहाँ से 6 किलोमीटर की पत्थर के रास्ते पर एक 1,100 मीटर (3,600 फीट)  की चढ़ाई हेमकुंड की ओर बढ़ती है हेमकुंड में रात्री विश्राम की कोई व्यवस्था नही है इसलिए यह जरूरी है की दोपहर को 2 बजे तक निकल कर रात को गोविंदघाट वापस आया जा सके

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट एयरपोर्ट है, जो गोविन्द घाट के पास स्थित हेमकुंड साहिब से लगभग 268 किमी दूर है। देहरादून हवाई अड्डे से बद्रीनाथ तक टैक्सी तथा बस सेवाएँ उपलब्ध हैं।

ट्रेन द्वारा

ऋषिकेश, हरिद्वार और देहरादून सभी के पास रेलवे स्टेशन हैं। हेमकुंड साहिब से निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश (लगभग 200 किमी) है। ऋषिकेश से हेमकुंड साहिब बस/टैक्सी से पहुंचा जा सकता है।

सड़क के द्वारा

हेमकुंड साहिब ऋषिकेश-बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है । ऋषिकेश से प्रवेश बिंदु 332 किमी की दूरी पर स्थित गोविन्द घाट है । गोविन्द घाट से 20 किलोमीटर की पैदल यात्रा हेमकुंड साहिब में समाप्त होती है।