औली

उत्तराखंड के चमोली जिले में हिमालय की पहाड़ियों पर स्थित औली स्की के लिए एक गंतव्य है. गढ़वाली में औली को औली बुग्याल अर्थात् “घास के मैदान” के नाम से जाना जाता है. यह समुद्रतल से 2500 मी० (8200 फीट) से 3050 मी० (10,010 फीट) तक की ऊंचाई पर स्थित है. औली जोशीमठ से सड़क या रोपवे के माध्यम से पहुंचा जा सकता है. यहाँ से नंदादेवी, कमेट तथा दूनागिरी जैसे विशाल पर्वत चोटियों का मनोरम दृश्य दिखाई देता है. आमतौर पर जनवरी से मार्च तक औली की ढलानों पर लगभग 3 मी० गहरी बर्फ की चादर बिछी होती है. औली में स्थित 500 मी० के ढलान के साथ 3 किमी विस्तार वाला मैदान अंतर्राष्टीय मानक के अनुसार एक बहुत अच्छा स्कीइंग ग्राउंड माना जाता है. बुलंद हिमाछादित पर्वतों की भूमिका स्कायर्स के हौसलों में और अधिक वृद्धि करता है. ध्यानाकर्षण के लिए औली में स्कीइंग महोत्सव का भी आयोजन किया जाता है. भारत के शीतकालीन खेल महासंघ द्वारा यंहा अब राष्टीय चैंपियनशिप का आयोजन किया जाता है. हालाँकि औली में स्कीइंग मुख्य आकर्षण का केन्द्र है परन्तु इसके अलावा भी केबल कार सवारी तथा रोप लिफ्ट, या अन्य आउटडोर खेल जेसे स्नोमैन बनाना या स्नोबॉल लड़ाई भी आकर्षण के केन्द्र हैं.

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट एयरपोर्ट है, जो औली से लगभग 279 किमी दूर है। देहरादून के सिटी सेंटर से लगभग 20 किमी दूर स्थित जॉली ग्रांट हवाई अड्डा एक अन्तेर्देशीय हवाई अड्डा है। देहरादून हवाई अड्डे से औली तक टैक्सी तथा बस सेवाएँ उपलब्ध हैं।

ट्रेन द्वारा

ऋषिकेश, हरिद्वार और देहरादून सभी के पास रेलवे स्टेशन हैं। औली से निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश (लगभग 250 किमी) है। ऋषिकेश से औली बस/टैक्सी से पहुंचा जा सकता है।

सड़क के द्वारा

औली जोशीमठ से 16 किमी की दूरी पर है। राज्य परिवहन की बसें जोशीमठ और ऋषिकेश (253 किमी) के बीच नियमित रूप से चलते हैं। स्थानीय परिवहन संघ और राज्य परिवहन की बसें तथा टैक्सी जोशीमठ और ऋषिकेश (253 किमी), हरिद्वार (277 किमी), देहरादून (2 9 8 किलोमीटर) और दिल्ली (500 किमी) के बीच नियमित रूप से चलते हैं। जोशीमठ से आगे, औली के लिए रोपवे, बस और टैक्सी सेवाएं उपलब्ध हैं।