हस्तशिल्प


वूलेन हस्तशिल्प
वूलेन हस्तशिल्प

चमोली, भगवान के निवास, अपने मंदिरों के लिए प्रतिष्ठित, भारत के उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों में से एक है। भारत-तिब्बती लोग जिन्होंने उच्च हिमालय में सदियों से अपने घर बनाये (माना और नीती घाटी) को “भूटिया” कहा जाता है | भूटिया जनजातिया, प्राचीन समय से तिब्बत के साथ व्यापार करते थे, ऊनी उद्योग को अपनी जीवन शैली के एक आवश्यक हिस्से के रूप में स्वीकार करते आये है। सदियों से उनकी महिलाएं अपने छोटे “पिठचन” (कमर-लूम) को आगे बढ़ा रही हैं। थुलमा, कालीन, चुटका, लावा, शाल, आसन, पंखी, गुदा आदि बहुत कलात्मक रूप से तैयार किए जाते है। पश्चिमी हिमालय से पूर्वोत्तर सीमा क्षेत्र तक पूरे पहाड़ कि बेल्ट, ऊनी वस्तुओं की एक विस्तृत श्रृंखला तैयार करती है, जो कि प्रत्येक विशिष्ट तरीके से होता है।